(पंजीकरण) राष्ट्रीय कृषि विकास योजना 2022: Rashtriya Krishi Vikas Yojana

नमस्कार दोस्तों!!! आपके लिए केंद्र सरकार द्वारा किसानों को सहायता को युवाओं को रोजगार प्रदान करने के उद्देश्य से कृषि स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए “राष्ट्रीय कृषि विकास योजना” की जानकारी आपसे साझा करने जा रहे हैं, कृषि विकास कार्यक्रम के अंतर्गत कृषि मंत्रालय देगा विभिन्न चरणों में सहायता पहले चरण में एग्रो प्रोसेसिंग फूड टेक्नोलॉजी बुक वैल्यू एडिशन क्षेत्र में Startup को शुरू करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा यानी कि कृषि विभाग द्वारा 1185.90 लाख रूपए की सहायता देने का निर्णय किया गया है. आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से Rashtriya Krishi Vikas Yojana के लिए पात्रता, आवश्यक दस्तावेज, ऑनलाइन आवेदन कैसे करें यह सभी जानकारियां विस्तार पूर्वक प्रदान करेंगे अधिक जानकारी के लिए आप लेख को अंत तक पढ़ लीजिए|

Rashtriya Krishi Vikas Yojana, central government has introduced this scheme with main objective to incentivize the state that increase their investment in agriculture and allied sectors. Rashtriya Krishi Vikas Yojana provide flexibility rural state in Planning and executing programs in agriculture. Also with the help of Rashtriya Krishi Vikas Yojana this will maximize return to the farmers.

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना 2022

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना
Rashtriya Krishi Vikas Yojana

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना का लक्ष्य कृषि एवं संबद्ध क्षेत्रों का समग्र विकास निश्चित करने हेतु 11वीं योजना अवधि के दौरान कृषि क्षेत्र में 4% वार्षिक वृद्धि करना है. केंद्र सरकार चाहती है कि देश में अधिक से अधिक किसान खेती करें खेती का दायरा बढ़ाया जा सके जिससे कि अधिक से अधिक पैदावार हो सके. किसानों को सहायता व युवाओं को रोजगार प्रदान करने के लिए कृषि स्टार्टअप को कृषि उद्यमिता विकास कार्यक्रम के अंतर्गत कृषि मंत्रालय देगा विभिन्न चरणों में सहायता ऐसा केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर जी ने अपने लेख में कहा है कि देश के किसानों के प्रति प्रति विद है तथा उन्हें अधिक से अधिक रोजगार देने की योजनाएं बनाई जा रही हैं.

Information Table of Rashtriya Krishi Vikas Yojana

योजना का नामराष्ट्रीय कृषि विकास योजना
शुरू की गई योजनाकेंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थीदेश के नागरिक
योजना का क्षेत्रसमस्त भारत
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन
आधिकारिक वेबसाइटrkvy.nic.in

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना का उद्देश्य

भारत सरकार ने 15,722 करोड़ रूपए के वित्‍तीय आवंटन से 3 वर्ष अर्थात् 2017-18 से 2019-20 की अवधि के लिए जारी केन्‍द्रीय प्रायोजित स्‍कीम (राज्‍य योजना)- राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (आरकेवीवाई) को राष्‍ट्रीय कृषि विकास योजना- कृषि एवं संबद्ध क्षेत्र पुनरूद्धार हेतु लाभकारी दृष्‍टिकोण (आरकेवीवाई-रफ्तार) के रूप में जारी रखने के लिए मंजूरी (1 नवंबर 2017 की स्‍थिति के अनुसार) दी है। इसका लक्ष्‍य किसानों के प्रयासों के सुदृढ़ीकरण के माध्‍यम से कृषि को लाभकारी क्रियाकलाप बनाना, जोखिम प्रशमन और कृषि व्यवसाय उद्यमिता को बढ़ावा देना है। आरकेवीवाई-रफ़्तार के तहत, कृषि उद्यमिता और नवाचार को बढ़ावा देने के अलावा कटाई पूर्व और कटाई पश्‍चात अवसंरचना पर मुख्‍य ध्यान दिया जाता है।

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना केंद्र सरकार के द्वारा योजना का शुभारंभ कृषि क्षेत्र में पैदावार बढ़ाने के लिए किया गया| योजना के अंतर्गत कृषि जलवायु प्राकृतिक संसाधन और प्रौद्योगिकी को ध्यान में रखते हुए कृषि विकास करना है| Rashtriya Krishi Vikas Yojana का मुख्य उद्देश्य कृषि निवेश को बढ़ावा देना है और अन्य राज्यों को प्रोत्साहित करना है| राष्ट्रीय कृषि विकास योजना में गेहूं धान, मोटे अनाज, दाल, तिलहन ओ जैसी प्रमुख खाद्य फसलों का सांकेतिक विकास मृदा स्वास्थ्य के संरक्षण संबंधित क्रियाकलाप कृषि यंत्रीकरण विरोधियों नदी घाटियों को संकेतिक विकास करना है|

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना विशेषताएं

  • Rashtriya Krishi Vikas Yojana का सीधा लाभ कृषि और सीमावर्ती क्षेत्रों में सार्वजनिक निवेश में वृद्धि करने के लिए राज्यों को प्रोत्साहित करना है.
  • राज्य को कृषि एवं सीमावर्ती क्षेत्रों की योजनाओं के नियोजन पर निष्पादन की प्रक्रिया में लचीलापन और सहायता प्रदान करें.
  • कृषि जलवायु की स्थितियां प्रतियोगिता प्राकृतिक संसाधनों की उपलब्धता के आधार पर जिले तथा राज्य में कृषि योजनाओं को तैयार करना योजना का लक्ष्य है.
  • कृषि और सीमावर्ती क्षेत्रों में किसानों की आय में वृद्धि करना योजना का एक मुख्य अदृश्य है.
  • इस योजना के अंतर्गत कृषि योजनाओं में स्थानीय जरूरतों फसलों प्राथमिकताओं को बेहतर तरीके से उपलब्ध करवाना Rashtriya Krishi Vikas Yojana का एक अन्य उद्देश्य है.

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना फसलों का वर्गीकरण

  1. पशुपालन एवं मात्स्यिकी विकाय क्रियाकलाप,
  2. भूमि सुधारों के लाभानुभोगियों के लिए विशेष योजनाएँ,
  3. परियोजनाओं की पूर्णता की अवधारणा शुरू करना,
  4. कृषि/बागवानी को बढ़ावा देने वाले राज्य सरकार के संस्थाओं को अनुदान सहायता,
  5. किसानों के अध्ययन दौरे,
  6. कार्बनिक तथा जैव-उर्वरक एवं
  7. अभिनव योजनाएँ
  8. गेहूँ, धान, मोटे अनाज, छोटे कदन्न, दालों, तिलहनों जैसी प्रमुख खाद्य फसलों का समेकित विकास,
  9. कृषि यंत्रीकरण,
  10. मृदा स्वास्थ्य के संवर्धन से संबंधित क्रियाकलाप,
  11. पनधारा क्षेत्रों के अन्दर तथा बाहर वर्षा सिंचित फार्मिंग प्रणाली का विकास और साथ ही पनधारा क्षेत्रों, बंजर भूमियों, नदी घाटियों का समेकित विकास,
  12. राज्य बीज फार्मों को सहायता,
  13. समेकित कीट प्रबंधन योजनाएँ,
  14. गैर फार्म क्रियाकलापों को बढ़ावा देना,
  15. मण्डी अवसंरचना का सुदृढ़ीकरण तथा मण्डी विकास,
  16. विस्तार सेवाओं को बढ़ावा देने के लिए अवसंरचना को मजबूत बनाना,
  17. बागवानी उत्पादन को बढ़ावा देने संबंधी क्रियाकलाप तथा सूक्ष्म सिंचाई प्रणालियों को लोकप्रिय बनाना

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना रफ्तार अन्य जानकारियां

  • इस योजना को प्रोत्साहन देने के लिए राज्यों को प्रोत्साहन तथा कृषि एवं संबंध देशों में चार्ज निवेश को बढ़ावा दिया जाएगा.
  • कृषि जलवायु करण प्रतियोगी एवं प्राकृतिक संसाधनों की उपलब्धता जिले के आधार पर की जाएगी
  • कृषि एवं संबंधित क्षेत्रों के विभिन्न घटकों का संग्रह करना तथा नए परिवर्तन लाना योजना का उद्देश्य है.

राष्ट्रीय कृषि उत्पादन वृद्धि फोकस क्षेत्र

  • कृषि मशीनरी:- फार्म मशीनीकरण प्रयासों विशेष रूप से उन्नत तथा महिला अनुकूल उपकरणों, औजारों तथा मशीनरी के लिए वैयक्तिक लाभार्थियों को सहायता प्रदान की जाएगी.
  • मृदा संसाधन :- किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरण; सूक्ष्म पोषक तत्व प्रदर्शन; प्रचार/उपयोग साहित्य के मुद्रण सहित जैविक खेती के प्रोन्नयन के लिए किसानों को प्रशिक्षण; क्षारीय तथा अम्लीय जैसी स्थितियों से प्रभावित मृदा के सुधार के लिए सहायता प्रदान की जा सकती है ।
  • बागवानी उत्पादन:– नर्सरी विकास तथा अन्य बागवानी गतिविधियों के लिए सहायता उपलब्ध की जाएगी.
  • किसानों के लिए अध्ययन दौरा:- किसानों का देश भर में विशेष रूप से अनुसंधान संस्थानों, मॉडल फामाँ आदि का अध्ययन दौरा ।
  • जैविक तथा जैव उर्वरक:– ग्राम स्तर पर विकेन्द्रित उत्पादन तथा उसके विपणन आदि के लिए सहायता । बेहतर उत्पादन के लिए इसमें वमों कम्पोस्टिंग तथा बेहतर प्रौद्योगिकियों को शुरू करना शामिल है ।
  • रेशम पालन:- कोकून तथा रेशम धागा उत्पादन तथा विपणन के लिए विस्तार प्रणाली के साथ कोकोन उत्पादन के स्तर पर रेशम पालन।

(Rs. 6000) पीएम किसान योजना: Payment Status, pm kisan yojana

Rashtriya krishi Vikas Yojana ऑनलाइन आवेदन कैसे?

  • योजना का लाभ लेने के लिए आपको सर्वप्रथम आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा.
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपको विभिन्न तरह के आवेदन करने के ऑप्शन दिखाई देंगे.
  • आप किसी भी क्षेत्र में आवेदन कर सकते हैं.
  • इसके साथ आपको अपने जुड़े दस्तावेज अटैच करने होंगे विभिन्न तरह की जानकारियां भर नहीं होंगी.
  • अंत में आप समिट बटन पर क्लिक करें इस तरह आपका आवेदन पूरा हो.

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना हेल्पलाइन नंबर

Rashtriya Krishi Vikas Yojana के लिए सरकार द्वारा हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है यदि आपको योजना का लाभ लेने में किसी तरह की परेशानी हो रही है तो आप इस हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

  • हेल्पलाइन नंबर – 011-23070964
  • ईमेल आईडी – support.rkvy-dac@gov.in

अंत में दोस्तों आज हमने आपको राष्ट्रीय कृषि विकास योजना की जानकारी दी आर्टिकल से जुड़े कोई भी प्रश्न आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का अवश्य उत्तर देंगे धन्यवाद पोस्ट को शेयर करना ना भूले

Leave a Comment