सीजी रोका-छेका अभियान 2021: रजिस्ट्रेशन | Chhattisgarh Roka Chheka Abhiyan

सीजी रोका-छेका अभियान, नमस्कार दोस्तों!!! आज हम आपके लिए छत्तीसगढ़ राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी द्वारा, राज्य के किसानों को आवारा पशुओं से बचाने के लिए एक नए अभियान की शुरुआत की है जिसका नाम “Chhattisgarh Roka Chheka Abhiyan” रखा गया है| जैसा कि आप सभी जानते हैं, कि हमारे देश में आवारा पशुओं से अपनी फसलों को बचाने के लिए किसानों को विभिन्न तरी मुश्किलात का सामना करना पड़ता है| यह केवल छत्तीसगढ़ राज्य की मुश्किल नहीं है. बल्कि संपूर्ण राज्य मैं यही मुश्किल राज्य के किसानों को सामना करना पड़ता है|सीजी रोका चेका अभियान में पारंपरिक कृषि विधियों को पुनर्जीवित करने और आवारा मवेशियों द्वारा खरीफ की फसलों को खुली चराई से बचाने का प्रयास करता है। रोका-चेक्का का उद्देश्य गायों के गोबर को एकत्र करके जैविक खाद का उपयोग करना है।

Chhattisgarh Roka Chika Abhiyan 2021, आज हम आपको छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा शुरू किए गए सीजी रोका-छेका अभियान के बारे में जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं. Roka Chheka Abhiyan को छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा राज्य के किसानों को आवारा पशुओं से बचाने के लिए शुरू किया गया| यदि आप भी इस अभियान के तहत भाग लेना चाहते हैं तो और अपनी फसलों को आवारा पशुओं से बचाना चाहते हैं तो हमारे इसलिए को अंतक जरूर पढ़ें|

Chhattisgarh Roka Chheka Abhiyan Details

सीजी रोका-छेका अभियान
सीजी रोका-छेका अभियान

छत्तीसगढ़ रोका-छेका अभियान छत्तीसगढ़ की पारंपरिक कृषि संबंधित योजनाओं को दोबारा जमीनी स्तर पर लाना है|रोका-छेका अभियान का उद्देश्य भाई मैं फसल के बाद आवारा पशुओं के खुले चढ़ाई पर प्रतिबंध लगाना है योजना का राज्य सरकार के सभी सरपंचों को यह सुनिश्चित करने की अपील की है| कि जब खुले में चढ़ने पर आवारा पशुओं की प्रतिबंध पर रोक लगाया जाए| आप सभी जानते हैं किसान अपने खेतों में बुवाई करते हैं जैसे ही थोड़ी सी फसल ऊपर उठती है| तो राज्य के आवारा पशुओं द्वारा उन्हें खुले में चढ़ाई करने से फसल को काफी नुकसान होता है|

  • योजना का नाम – छत्तीसगढ़ रोका-छेका अभियान
  • शुरू की गई योजना – भूपेश बघेल द्वारा
  • लाभार्थी – राज्य के किसान
  • योजना की घोषणा – 20 जून
  • उद्देश्य – रोजगार उपलब्ध करवाना

छत्तीसगढ़ रोका-छेका अभियान का उद्देश्य

इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य रोका-छेका अभियान भी गांव वालों के फायदे का अभियान है। ललिता राठिया ने बताया कि अब गांव के जानवर खुले में नहीं छोड़े जायेंगे। खेतों और बाड़ियों में घुसकर फसलों और सब्जियों को नहीं खायेंगे। बाहर छुटे जानवरों को सीधे गौठान में छेका जायेगा और पचास रुपये जुर्माना वसूलकर ही छोड़ेंगे।

ललिता राय ने बताया कि अब जानवर काम के खुले में नहीं छोड़ जाएंगे खेत और गाड़ियों में घुसकर फसलों सब्जियों, को नहीं खाएंगे बाहर छोटे जानवरों को सीधे गौठान में ठेका जाएगा और ₹50 जुर्माना वसूला छोड़ेंगे|उन्होंने मुख्यमंत्री बघेल को धन्यवाद व्यक्त करते हुए कहा कि अब आजीविका ठीक से चल रही है। पहले काम नहीं मिल रहा था, अब 10 से ज्यादा महिलाओं को रोज का रोजगार मिल गया है। ललिता राठिया ने आशा जताई की गौठानों में अच्छे से काम करने पर एक साल में ही गांव की तस्वीर बदल सकती है।

Chhattisgarh Roka Chekka Yojana Benefits

NEW UPDATES:-छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा खरीफ फसलों को आवारा पशुओं से सुरक्षित रखने के उद्देश्य से 19 जून से 30 जून तक रोका से का अभियान शुरू किया गया है| छत्तीसगढ़ राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी द्वारा इस योजना की शुरूआत की गई है गांव में खरीफ फसलों को मवेशियों से सुरक्षा हो पाएगी साथ ही खुले में घूमने वाले पशुओं पर भी रोकथाम लगाई जाएगी रोका 6 का छत्तीसगढ़ की पुरानी परंपरा है इसके जरिए संकल्प लिया जाता है कि खरीफ फसलों की खेती के दौरान सभी लोग अपने मवेशियों को बड़े और गोटन में ही रखेंगे|

  • इस योजना के शुरू होने से राज्य के गौशाला में रोजगार के नए अवसर प्रदान होंगे|
  • योजना के शुरू होने से महिला स्व-सहायता समूहों (SHG) को शामिल किया गया है।
  • एसएचजी के सदस्य गोबर का उपयोग करके सामान और कलाकृतियां बनाएंगे|
  • CG रोका-छेका अभियान गायों के गोबर को इकट्ठा करके जैविक खाद का उपयोग करना भी सुनिश्चित करेगा।
  • इस योजना से नए उत्पादों में दियो गाय के गोबर से उपयोग होने वाली महिला एसएचजी द्वारा बनाई गई अगरबत्ती शामिल हैं।

पात्रता/ दस्तावेज

  • योजना का लाभ केबल राज्य के साईं नागरिकों को दिया जाएगा|
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो

छत्तीसगढ़ स्कॉलरशिप (छात्रवृत्ति) योजना लिस्ट 2020-21

सीजी रोका-छेका अभियान योजना आवेदन कैसे करें

New Updates:- छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा चलाई जा रही इस योजना के अंतर्गत खुले में घूमते पशुओं को गौशाला में रखने चराई की समस्या से निजात के लिए योजना की शुरुआत की गई है छत्तीसगढ़ में गौशाला के लिए 2000 भवन तैयार इस वर्ष के अंत तक 5000 गोवंश के लिए घर तैयार हो जाएंगे| गौठान समितियों को 10000 रुपए प्रतिमाह सहायता प्रदान की जाएगी| गौठान के गोबर से गैस व अन्य उत्पाद का निर्माण| किसानों का भविष्य भी सवेरे का और रोजगार के नए अवसर भी उत्पन्न होंगे|

छत्तीसगढ़ राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी द्वारा राज्य भर के किसानों को शुक्रवार को मवेशियों, से खरीफ फसलों को बचाने के लिए गर्म परी गांवों में पारंपरिक व्यवस्था ‘रोका छेका’ की तैयारी शुरू हो गई। रोका छेका अभियान 19 जून से 30 जून तक राज्य भर में चलाया जाएगा। ग्रामीण क्षेत्रों में मवेशियों के खुले चराई को रोकने और शहरों में मवेशियों को मुक्त बनाने के लिए रणनीति पर चर्चा की जाएगी।

अंत में दोस्तों आज हमने आपको छत्तीसगढ़ रोका-छेका अभियान की जानकारी दी आर्टिकल से जुड़े कोई भी प्रश्न आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं| हम आपके प्रश्नों का अवश्य उत्तर देंगे धन्यवाद पोस्ट को शेयर करना ना भूले|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *