यूपी रेहड़ी रिक्शा चालक 1000 Rs स्कीम 2021 (भरण पोषण भत्ता) आवेदन

यूपी 1000 Rs भरण पोषण भत्ता 2021 | UP 1000 Rs Bharan Poshan Bhatta | यूपी रेहड़ी रिक्शा चालक 1000 Rs स्कीम | UP 1000 Rupees Scheme | Uttar Pradesh Bharan Poshan Bhatta Yojana

नमस्कार दोस्तों आज हम आपके लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य के शहरी क्षेत्र के नागरिकों को COVID-19 महामारी के दौरान कमजोर वर्ग को 1 महीने के लिए 1000 रुपए भरण पोषण भत्ता देने का निर्णय राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा कर दिया गया है. योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि प्रदेश वासियों के जीवन और जीविका की सुरक्षा के लिए उत्तर प्रदेश सरकार प्रतिबद्ध है. राज्य में लोगों को भरण-पोषण मैं किसी भी तरह की परेशानी का सामना ना करना पड़े इसके लिए 1000 रुपए देने का निर्णय उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कर दिया गया है. योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि यूपी 1000 Rs भरण पोषण भत्ता का सीधा लाभ राज्य के लगभग 1 करोड लाभार्थियों को मिलेगा.आज हम आपको अपने इसलिए के माध्यम से योजना के लिए आवश्यक पात्रता, दस्तावेज 10 आवेदन कैसे करें यह सभी जानकारियां प्रदान करेंगे अधिक जानकारी के लिए लेख को अंत तक विस्तार पूर्वक पढ़ लीजिए.

यूपी रेहड़ी रिक्शा चालक 1000 Rs स्कीम

यूपी रेहड़ी रिक्शा चालक 1000 Rs स्कीम

इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कैबिनेट में करवाना जनित परिस्थितियों को देखते हुए गरीब और जरूरतमंदों को सहायता के लिए अब आम तो देव एवं पात्र व्यक्ति श्रेणी के राशन कार्ड धारकों को 3 महीने तक प्रति यूनिट 3 किलो गेहूं तथा 2 किलो चावल निशुल्क प्रदान किए जाएंगे योजना की घोषणा राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा कर दी गई है,शहरी क्षेत्रों में दैनिक रूप से कार्य कर अपना जीविकोपार्जन करने वाले ठेला, खोमचा, रेहड़ी, खोखा आदि लगाने वाले पटरी दुकानदारों, दिहाड़ी मजदूरों, रिक्शा/ई-रिक्शा चालक, पल्लेदार सहित नाविकों, नाई, धोबी, मोची, हलवाई आदि जैसे परम्परागत कामगार इससे लाभान्वित होंगे।

उत्तर प्रदेश Rs 1000 भरण पोषण योजना का उद्देश्य

यूपी 1000 Rs भरण पोषण भत्ता

इस योजना को शुरू करने का एकमात्र मुख्य उद्देश्य राज्य में करो ना महामारी के समय शहरी क्षेत्र के नागरिकों को विभिन्न तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा है. ऐसी परेशानियों को कम करने के लिए सरकार द्वारा भरण-पोषण के लिए 1000 रुपए देने का निर्णय योगी सरकार द्वारा कर दिया गया है. योगी जी ने UP 1000 Rs भरण पोषण भत्ता की जानकारी खुद अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से प्रदान की है. योजना के बारे में अधिक जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश के लगभग 1 करोड़ लोगों को योजना का लाभ मिलेगा. उन्होंने कहा कि राज्य के नागरिक जो दैनिक कार्य करते हैं जैसे कि – ठेला, खोमचा, रेहड़ी, खोखा आदि लगाने वाले पटरी दुकानदारों, दिहाड़ी मजदूरों, रिक्शा/ई-रिक्शा चालक, पल्लेदार सहित नाविकों, नाई, धोबी, मोची, हलवाई जैसे कामगार नागरिकों को योजना का सीधा लाभ दिया जाएगा.

Information Table Uttar Pradesh 1000 Rupees Scheme 2021

Scheme NameUP 1000 Rs Scheme
Launched ByUP CM Yogi Adityanath
StateUttar Pradesh
BenefitsRs. 1000/-
Mode of Application
Official Website

UP Rs 1000 Scheme विशेषताएं

  • ठेला, खोमचा, रेहड़ी, खोखा आदि लगाने वाले पटरी दुकानदारों, दिहाड़ी मजदूरों, रिक्शा/ई-रिक्शा चालक, पल्लेदार सहित नाविकों, नाई, धोबी, मोची, हलवाई जैसे कामगारों को योजना का सीधा लाभ मिलेगा.
  • इसके अतिरिक्त गरीब एवं क्यूट मन नागरिकों को 3 महीने
    के लिए मुफ्त राशन प्रदान किया जाएगा.
  • योजना के अंतर्गत राज्य के नागरिकों को 3kg गेहूं तथा 3kg चावल निशुल्क प्रदान किए जाएंगे.
  • उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की इतनी योजनाओं को शुरू करने के बाद राज्य के लगभग 15 करोड़ लोगों को ही सीधा लाभ प्रदान किया जाएगा.
  • जैसा कि आप सभी जानते हैं कि covid -19 महामारी के कारण देश में लॉकडाउन की स्थिति है. जिससे कि कामगार जो दिनचर्या में कार्य करते हैं उनके जीवन पर काफी बुरा असर पड़ा है.
  • इन्हीं समस्याओं को देखते हुए योगी सरकार द्वारा इन योजनाओं के तहत जरूरतमंदों की सहायता करने का निर्णय किया गया है.
  • शहरी क्षेत्र के इन कामगारों को सरकार द्वारा अब 1000 रुपए सहायता के तौर पर प्रदान किया जाएगा.

उत्तर प्रदेश भरण पोषण योजना पात्रता

  • श्रम विभाग नगर विकास और ग्राम सभाओं में पंजीकृत मजदूर इस योजना का लाभ ले सकते हैं.
  • लाभ लेने वाला नागरिक उत्तर प्रदेश का स्थाई नागरिक होना चाहिए.
  • अगर आपके पास श्रम विभाग नगर विकास किया ग्राम सभाओं में से किसी भी तरह का पंजीकृत सर्टिफिकेट या दस्तावेज नहीं है तो आपको योजना का लाभ नहीं मिलेगा.
  • यूपी 1000 Rs भरण पोषण भत्ता का लाभ राज्य के ठेला, खोमचा, रेहड़ी, खोखा आदि लगाने वाले पटरी दुकानदारों, दिहाड़ी मजदूरों, रिक्शा/ई-रिक्शा चालक, पल्लेदार सहित नाविकों, नाई, धोबी, मोची, हलवाई नागरिकों को दिया जाएगा.
  • ऐसे नागरिक जिनके पास खाने-पीने की बसों की कमी है उन्हें सरकार द्वारा 1000 रुपए दिए जाएंगे.
  • 3 किलो चावल तथा 3 किलो गेहूं अगले 3 महीनों के लिए सरकार द्वारा मुफ्त प्रदान की जाएगी.
  • योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि राज्य के कामगारों का विशेष रूप से ध्यान रखते हुए उन्हें 1000 पर देने का निर्णय उनकी सरकार द्वारा कर दिया गया है.
  • उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा आने वाले कुछ ही दिनों में यह सहायता राशि उनके बैंक अकाउंट में सीधे जमा कर दी जाएगी.

आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • बैंक अकाउंट
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • अन्य दस्तावेज

UP Govt 1000 Rs Scheme 2021

उत्तर प्रदेश Rs 1000 भरण पोषण योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?

इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको सर्वप्रथम नीचे दिए हुए तरीकों को फॉलो करना होगा:-

  • इसके लिए आपको सर्वप्रथम सरकार द्वारा चलाई जा रही आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा.
  • अधिकारी वेबसाइट पर जाने के बाद आपको online Registration का ऑप्शन दिखाई देगा वहां पर क्लिक करें.
  • क्लिक करने के बाद आप एक नए पेज पर पहुंच जाएंगे वहां पर आपको Registration Now के ऑप्शन पर क्लिक करना है.
  • सभी तरह की जानकारियां भर देने के बाद आपको योजना का लाभ दे दिया जाएगा.
  • इस तरह आप योजना का लाभ ले सकते हैं.

FAQ आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न

सरकार द्वारा यह सहायता राशि कितने महीनों तक दी जाएगी?

इस योजना का लाभ अभी तक 1 महीने के लिए दिया जाएगा.

उत्तर प्रदेश भरण पोषण योजना के तहत कितने रुपए मिलेंगे?

योगी आदित्यनाथ द्वारा किए गए ट्वीट के अनुसार शहरी क्षेत्र के नागरिकों को 1000 रुपए प्रतिमाह प्रदान किए जा रहे हैं.

इसके अधिक किन-किन योजनाओं के तहत लोगों को लाभ दिया जा रहा है.

अगले 3 महीनों के लिए सरकार द्वारा मुफ्त राशन की सुविधा भी प्रदान कर दी गई है.

Conclusion: अंत में दोस्तों आज हमने आपको उत्तर प्रदेश Rs 1000 भरण पोषण योजना की जानकारी दी आर्टिकल से जुड़े कोई भी प्रश्न आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्नों का अवश्य उत्तर देंगे धन्यवाद पोस्ट को शेयर करना ना भूलें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *